लवण भास्कर चूर्ण के फायदे – lavan bhaskar churna ke fayde in hindi

पाचनतंत्र से सम्बन्धित सामान्य रोगों को दूर करने में लवण भास्कर चूर्ण काफी फायदेमंद है। पाचन शक्ति की कमी होने से शरीर में कई तरह के रोग उत्पन्न होने लग जाते हैं। हाजमा खराब हो जाने पर खाया पीया भी ढंग से हजम नहीं होता है और अजीर्ण आदि रोग उत्पन्न होते हैं। भोजन के भली भांति पाचन नहीं होने पर शरीर में पोषक तत्वों की भी कमी होने लग जाती है, जिससे शरीर की ताकत और रोग प्रतिरोधक शक्ति भी कम हो जाती है। लवण भास्कर चूर्ण से होने वाले फायदे पाचन शक्ति को ताकतवर बनाते हैं जिससे पेट के विभिन्न रोगों में काफी लाभ मिलता है।

यह चूर्ण खाने में काफी स्वादिष्ट और रुचिकर होता है। इसका सेवन अजीर्ण, मंदाग्नि, तिल्ली, अर्श, क्षय, ग्रहणी, कुष्ठ, कब्ज, शूल, आम-विकार आदि में फायदेमंद है।

लवण भास्कर चूर्ण के घटक – लवण भास्कर चूर्ण की सामग्री

लवण भास्कर चूर्ण निम्न घटकों के मिश्रण से बनता है-

धनिया

काला नमक

पीपल

पीपलामूल

काला जीरा

तेजपत्ता

नागकेसर

तालीसपत्र

अम्लबेत

समुद्री लवण

सौवर्चल लवण

काली मिर्च

जीरा

शुंठी

अनारदाना

दालचीनी

इलायची

सेंधा नमक

लवण भास्कर चूर्ण के फायदे - lavan bhaskar churna ke fayde in hindi

लवण भास्कर चूर्ण की तासीर-

शुंठी, दालचीनी आदि गर्म तासीर की वस्तुओं के प्रयोग होने से इसकी तासीर थोड़ी सी गर्म होती है। इसे आप गर्मियों में ठंडी वस्तुओं जैसे छाछ आदि के साथ प्रयोग कर सकते हैं।

इसे भी पढ़ें: हरी सौंफ खाने के फायदे

लवण भास्कर चूर्ण के फायदे और उपयोग – lavan bhaskar churna benefits in hindi

इस चूर्ण का प्रयोग मुख्यतः पाचन से सम्बन्धित रोगों में किया जाता है। यहाँ लवण भास्कर चूर्ण के कुछ प्रमुख फायदे और उपयोग बताये जा रहे हैं।

मंदाग्नि, बदहजमी, पाचन शक्ति की कमी में उपयोगी-

लवण भास्कर चूर्ण पाचन क्रिया को सुचारु करता है जिससे पाचन शक्ति की कमी और खराबी से उत्पन्न हुए रोग मंदाग्नि, बदहजमी आदि दूर हो जाते हैं।

लवण भास्कर चूर्ण भूख बढ़ाता है-

यह भूख को बढ़ाता है जिससे शरीर को समुचित पोषण मिलता है। यह शरीर को ह्रष्ट-पुष्ट बनाने में सहायक है।

पेट की सूजन कम करने में लवण भास्कर चूर्ण के फायदे-

लवण भास्कर चूर्ण का सेवन पेट की सूजन को कम करने में सहायक है। पेट की सूजन को कम करने के लिए हल्के सुपाच्य तरल आहार के साथ लवण भास्कर चूर्ण का प्रयोग करना चाहिए।

एसिडिटी में लवण भास्कर चूर्ण के फायदे-

इसका सेवन एसिडिटी या अम्लपित्त को कम करने में भी सहायक है।

कब्ज दूर करने में फायदेमंद-

सोने से पहले लवण भास्कर चूर्ण का गुनगुने जल के साथ सेवन करने से कब्ज की समस्या दूर होती है। यह एक मृदु विरेचक है।

पेट की अधिक गैस, पेट दर्द या पेट फूलना-

पेट में ज्यादा गैस बनना, पेट फूलना और पेट दर्द को दूर करने में लवण भास्कर चूर्ण सहायक है।

लवण भास्कर चूर्ण की सेवन विधि-

इसे खाने के बाद पानी, मठ्ठा या छाछ, दही के पानी के साथ सेवन किया जा सकता है। लवण भास्कर चूर्ण को एक ग्राम से तीन ग्राम की मात्रा में सेवन किया जा सकता है।

लवण भास्कर चूर्ण के नुकसान – लवण भास्कर चूर्ण साइड इफेक्ट्स

निर्धारित मात्रा में लवण भास्कर का उचित सेवन करने पर सामान्यतः कोई दुष्प्रभाव नहीं होता है। फिर भी स्वास्थ्य की विशेष परिस्थितियों जैसे गर्भावस्था, उच्च रक्तचाप, यकृत रोग, गुर्दे से सम्बंधित रोग आदि में चिकित्सक से परामर्श लेकर ही सेवन करें।

Please follow and like us: