अश्वगंधा (असगंध) के स्वास्थ्य लाभ- ashwagandha (asgandh) ke fayde

अश्वगंधा (WITHANIA SOMNIFERA) या असगंध एक प्रसिद्ध जड़ी बूटी है। यह भारतीय जिनसेंग के रूप में भी प्रसिद्ध है। इसका उपयोग आयुर्वेद में कई रोगों को ठीक करने और शक्ति, स्टैमिना और सामान्य स्वास्थ्य में सुधार के लिए किया जाता है। यह एक छोटी झाड़ी होती है और ज्यादातर इसकी जड़ का उपयोग एक जड़ी बूटी के रूप में किया जाता है। इसे आयुर्वेद में रसायन (कायाकल्प करने वाला) कहा गया है। इस जड़ी बूटी के बहुत सारे स्वास्थ्य लाभ हैं और अगर इसे सही तरह से इस्तेमाल किया जाए तो यह पूरे शरीर के लिए बहुत अच्छा टॉनिक है। यह कई बीमारियों को ठीक करता है और होने से रोकता है।

असगंध या अश्वगंधा का उपयोग किसी भी मौसम में किया जा सकता है। इसके अलावा, अगर उचित खुराक में इसका सही उपयोग किया जाए तो सामान्यतः इसका कोई दुष्प्रभाव नहीं है। हल्के या माइनर साइड इफेक्ट्स (जैसे पेट खराब होना या नींद कम आना) बहुत ही कम होते हैं और बहुत ही जल्द ही ठीक हो जाते हैं। चाहें तो तीन महीने के नियमित उपयोग के बाद दस से पंद्रह दिनों का थोड़ा ब्रेक ले सकते हैं, और फिर वापिस इसे लेना शुरू कर सकते हैं। साइड इफेक्ट्स की किसी भी संभावना को खत्म करने के लिए यह थोड़ा ब्रेक पर्याप्त है। यह आम तौर पर बहुत सुरक्षित है। इसका नियमित उपयोग आपके जीवन की गुणवत्ता को बढ़ा सकता है।

Table of Contents:-

अश्वगंधा सेवन की विधि –

अश्वगंधा (असगंध) के स्वास्थ्य लाभ- ashwagandha (asgandh) ke fayde

आप अश्वगंधा पाउडर के 500 मिलीग्राम से पांच ग्राम तक की मात्रा को फुल क्रीम दूध के साथ ले सकते हैं । चाहें तो आप दूध में शहद या घी भी मिला सकते हैं। एक कप अश्वगंधा मिला दूध लें और उसके बाद एक कप और सामान्य दूध पी लें। इसे खाली पेट  या भोजन के कम से कम दो घंटे बाद लेना  ज्यादा लाभकारी है।

इसके बेहतर पाचन के लिए आप इसे दूध के साथ उबाल भी सकते हैं। दूध के अलावा  अन्य विकल्प घी, शहद और पानी हैं। अगर आप इसे पानी के साथ लेना चाहते हैं तो इसे भोजन करने के बाद ही लें। इसे दिन में एक या दो बार ले सकते हैं। आप इसे अन्य हर्बल या आयुर्वेदिक टॉनिक के साथ भी उपयोग कर सकते हैं। यह टॉनिक के लाभों को बढ़ाएगा।

यह भी पढ़ें: सफेद मुसली के स्वास्थ्य लाभ और उपयोग

अश्वगंधा के स्वास्थ्य लाभ-

तनाव , अवसाद और चिंता कम करें-

यह कोर्टिसोल हार्मोन के स्तर को कम करता है। तनाव के होने पर शरीर में कोर्टिसोल हार्मोन उत्पादित होता है अनुसंधान से पता चला है कि अश्वगंधा के नियमित उपयोग से कोर्टिसोल का स्तर 11-32% कम हो जाता है।

आयुर्वेदिक रसायन  (कायाकल्प करनेवाला) –

आयुर्वेद में, यह एक रसायन  (कायाकल्प) जड़ी बूटी है। इसका  नियमित उपयोग शरीर को नया ऊर्जा स्तर, दीर्घायु, नया जीवन और शक्ति देगा।

रक्त (ब्लड) बढ़ाए-

अश्वगंधा आपके ब्लड प्रोडक्शन को बढ़ाता है।

बूस्ट टेस्टोस्टेरोन-

तीन महीने की अवधि के लिए अश्वगंधा का दैनिक 5 ग्राम सेवन टेस्टोस्टेरोन स्तर को 10 प्रतिशत से अधिक बढ़ा सकता है।

पुरुषों में प्रजनन क्षमता बढ़ाए-

अश्वगंधा शुक्राणु की गुणवत्ता को बढ़ाता है। इसलिए प्रजनन क्षमता के लिए अच्छा है।

कामोद्दीपक-

यह एक बहुत अच्छा कामोद्दीपक है। इसलिए सभी प्रकार के पुरुषों की यौन स्वास्थ्य समस्याओं के उपचार में उपयोग किया जाता है।

यौन शक्ति , विटैलिटी, पॉवर, एनर्जी, स्ट्रेंथ और स्टैमिना बढ़ाये-

अश्वगंधा पुरुषों और महिलाओं की प्रजनन प्रणाली के लिए बहुत अच्छा है। यह आपको अधिक ताकत और सहनशक्ति प्रदान करता है।

मसल्स मास बढ़ाएं और अतिरिक्त वसा को कम करें-

अश्वगंधा न केवल आपकी मांसपेशियों को बढ़ाता है बल्कि वजन कम करने के लिए भी लाभकारी है। यह आपके शरीर के चयापचय को बढ़ा देता है। अच्छा चयापचय शरीर की अतिरिक्त चर्बी को कम करता है।

ब्लड शुगर लेवल को कम कर सकता है-

कई अध्ययनों से पता चलता है कि अश्वगंधा मधुमेह के रोगियों में रक्त शर्करा के स्तर को कम करने में मदद कर सकता है।

कैंसर से बचाता है-

अश्वगंधा कैंसर से बचाव में बहुत मददगार है। साथ ही, यह कैंसर के रोगियों के लिए फायदेमंद हो सकता है।

हार्मोनल संतुलन में मदद करना-

यह हार्मोनल संतुलन के लिए सबसे अच्छा एडाप्टोजन है।

अनिद्रा को ठीक करता है-

अश्वगंधा तनाव के स्तर को नियंत्रित करता है और एक शांत प्रभाव देता है। नतीजतन, यह अच्छी नींद में बहुत मददगार है।

त्वचा और बालों की सुंदरता बढ़ाता है-

इसमें जीवाणुरोधी, एंटी-ऑक्सीडेंट और रोगाणुरोधी गुण होते हैं। अश्वगंधा को स्वस्थ और मजबूत बालों  बनाता है। यह स्वस्थ बालों का विकास करने के लिए शैम्पू और कंडीशनर में भी उपयोग किया जाता है और खोपड़ी में रक्त परिसंचरण को बढ़ाता है। यह आपकी त्वचा को फ्री-रेडिकल्स  से बचाता है, कोलेजन उत्पादन बढ़ाता है और एक सुंदर, चमकती त्वचा देता है।

एंटीऑक्सिडेंट और फ्री रेडिकल्स से बचाता है –

इसमें एंटीऑक्सिडेंट गुण होते हैं। यह  शरीर की कोशिकाओं को फ्री रेडिकल्ससे बचाता है।

अश्वगंधा के नुस्खे या प्रयोग-

स्वस्थ वजन बढ़ाना, हाइट और मसल्स मास बढ़ाना-

एक चम्मच अश्वगंधा चूर्ण को एक चम्मच घी के साथ एक गिलास गुनगुने दूध के साथ दिन में दो बार लें। ताजे फल, गाय का दूध, और डेयरी उत्पाद खाएं। तला हुआ भोजन, फास्ट फूड, और भारी, खट्टे और मसालेदार खाद्य पदार्थों से बचें।

यौन शक्ति के लिए-

अश्वगंधा चूर्ण एक ग्राम और 200 मिलीग्राम शुध शिलाजीत एक गिलास दूध के साथ दिन में दो बार लें। यह आपकी यौन शक्ति को बढ़ाएगा, टेस्टोस्टेरोन, प्रतिरक्षा, प्रजनन क्षमता को बढ़ाएगा और आपकी मांसपेशियों और हड्डियों को शक्ति प्रदान करेगा।

अनिद्रा और तनाव नियंत्रण-

सोने जाने से पहले एक गिलास गुनगुने दूध और एक चम्मच घी के साथ 2 से 5 ग्राम अश्वगंधा पाउडर लें।

तंत्रिका तंत्र विकार-

अश्वगंधारिष्ट (आयुर्वेदिक औषधि) 15 से 30 मिलीलीटर एक कप पानी के साथ दिन में दो बार लें।

अश्वगंधा (विथानिया सोमनीफेरा) युवा ऊर्जा के लिए बहुत अच्छी जड़ी बूटी है। इसका उपयोग करना शुरू करें और अद्भुत स्वास्थ्य लाभ प्राप्त करें।

Please follow and like us: